माँ दुर्गा के नौ रूपों की पूजा और विधान का वर्णन, भारतीय सनातन परंपरा में माँ दुर्गा को शक्ति की देवी मानकर उनके विभिन्न रूपों की पूजा, अर्चना और स्तुति के विधान का वर्णन किया गया है। हिन्दू धर्म में साल में दो बार मां दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा के लिए नवरात्रि का आयोजन किया जाता है। जब पहले नव संवत्सर की शुरुआत में चैत्र प्रतिपदा से होती है, तब चैत्र नवरात्रि का आयोजन किया जाता है और पूरे नौ दिनों तक मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा के बाद, चैत्र नवरात्रि राम नवमी के रूप में समाप्त होती है।

 

माँ दुर्गा के नौ रूपों की पूजा

इसी तरह साल में दूसरी बार आश्विन के शुक्ल पक्ष में शारदीय नवरात्रि का आयोजन किया जाता है। इन नवरात्रों में भी मां दुर्गा के नौ रूपों की विशेष पूजा की जाती है और विजयादशमी से एक दिन पहले शारदीय नवरात्रि समाप्त हो जाती है। दोनों नवरात्रों में मां दुर्गा के सभी नौ रूपों शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री की पूजा का विधान है। इस बार शारदीय नवरात्रि 7 अक्टूबर से शुरू होकर 14 अक्टूबर को समाप्त होंगे। 


माँ दुर्गा के नौ रूपों की पूजा और विधान का वर्णन 


प्रथमं शैलपुत्री च द्वितीयं ब्रह्मचारिणी।

तृतीयं चन्द्रघण्टेति कूष्माण्डेति चतुर्थकम्।।

पंचमं स्कन्दमातेति षष्ठं कात्यायनीति च।

सप्तमं कालरात्रीति महागौरीति चाष्टमम्।।

नवमं सिद्धिदात्री च नवदुर्गा: प्रकीर्तिता:।

उक्तान्येतानि नामानि ब्रह्मणैव महात्मना।।



मां दुर्गा का प्रथम रूप शैलपुत्री है।


7 अक्टूबर नवरात्रि का पहला दिन है और घटस्थापना के बाद मां दुर्गा के नौ रूपों में प्रथम रूप शैलपुत्री की पूजा और स्तुति की जाती है। शैल का अर्थ है हिमालय और उन्हें शैलपुत्री कहा जाता है क्योंकि उनका जन्म हिमालय में हुआ था। उन्हें पार्वती के रूप में भगवान शंकर की पत्नी के रूप में भी जाना जाता है। वृषभ (बैल) उनका वाहन होने के कारण, उन्हें वृषभरुधा के नाम से भी जाना जाता है। उनके दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल है। 


गूगल पर सर्च करके थक चुके है तो नये अनुभव के लिए ट्रॉय करे एंटायर वेब  


निम्नलिखित मंत्र से मां शैलपुत्री की पूजा और स्तुति की जाती है।  


वन्दे वांछितलाभाय, चंद्रार्धकृतशेखराम्‌। 

वृषारूढां शूलधरां, शैलपुत्रीं यशस्विनीम्‌॥


हिंदी अर्थ:- मैं मनोवांछित लाभ के लिये अपने मस्तक पर अर्धचंद्र धारण करने वाली, वृष पर सवार रहने वाली, शूलधारिणी और यशस्विनी मां शैलपुत्री की वंदना करता हूं।


माँ शैलपुत्री बीज मंत्र 


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं शैलपुत्र्यै नम: 



मां दुर्गा का दूसरा रूप 'ब्रह्मचारिणी'है।


नवरात्रि के दूसरे दिन मां दुर्गा के नौ रूपों में दूसरा रूप 'देवी ब्रह्मचारिणी' की पूजा करने का विधान है। मां ब्रह्मचारिणी के दाहिने हाथ में माला और बाएं हाथ में कमंडल है। शास्त्रों में बताया गया है कि मां दुर्गा ने पार्वती के रूप में पार्वताराज की बेटी के रूप में जन्म लिया था और महर्षि नारद के कहने पर भगवान महादेव को पति के रूप में पाने के लिए उन्होंने अपने जीवन में घोर तपस्या की थी। हजारों वर्षों की कठोर तपस्या के कारण उनका नाम तपस्चारिणी या ब्रह्मचारिणी पड़ा। अपनी तपस्या की इस अवधि के दौरान, उन्होंने कई वर्षों तक उपवास और बहुत कठिन तपस्या करके महादेव को प्रसन्न किया। दूसरे नवरात्रि पर उनके इस रूप की पूजा और स्तुति की जाती है।


मां ब्रह्मचारिणी की पूजा निम्न मंत्र से की जाती है-


ददधाना करपद्माभ्याम्, अक्षमालाकमण्डलू।

देवी प्रसीदतु मयि, ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा।।


हिंदी अर्थ:- जिनके एक हाथ में अक्षमाला है और दूसरे हाथ में कमण्डल है, ऐसी उत्तम ब्रह्मचारिणीरूपा मां दुर्गा मुझ पर कृपा करें।


माँ ब्रह्मचारिणी बीज मंत्र


ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं ब्रह्मचारिणीय नमः



मां 'चंद्रघंटा' मां दुर्गा का तीसरा रूप है।


नवरात्रि के तीसरे दिन दुर्गा के नौ रूपों में तीसरे रूप चंद्रघंटा देवी की पूजा और स्तुति करने का विधान है। इन देवी के मस्तक पर घण्टे के आकार का आधा चन्द्रमा शुशोभित है, इसलिए इनका नाम चन्द्रघण्टा पड़ा। इन देवी के दस हाथ माने गए हैं और वे विभिन्न हथियारों से युक्त हैं। ऐसा माना जाता है कि देवी के इस रूप की पूजा करने से मन को अलौकिक शांति प्राप्त होती है और इससे न केवल इस दुनिया में बल्कि परलोक में भी परम कल्याण की प्राप्ति होती है।


इनकी उपासना के लिए निम्न मंत्रों का उल्लेख किया गया है।


पिंडजप्रवरारूढा, चंडकोपास्त्रकैर्युता।

प्रसादं तनुते मह्यं, चंद्रघंटेति विश्रुता।।


हिंदी अर्थ:- श्रेष्ठ सिंह पर सवार और चंडकादि अस्त्र शस्त्र से युक्त मां चंद्रघंटा मुझ पर अपनी कृपा करें।


गूगल पर सर्च करके थक चुके है तो नये अनुभव के लिए ट्रॉय करे एंटायर वेब  


माँ चंद्रघंटा बीज मंत्र 


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चन्द्रघंटायै नम: 



मां दुर्गा के चौथे स्वरूप माँ कुष्मांडा है।


नवरात्रि के चौथे दिन मां कूष्मांडा, यानि माँ दुर्गा के नौ रूपों में चौथे रूप की पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है कि सृष्टि के निर्माण से पहले जब चारों तरफ अंधेरा था, तब मां दुर्गा ने इस अंडे यानी ब्रह्मांड की रचना की थी। इसलिए उन्हें कुष्मांडा कहा जाता है। सृष्टि की उत्पत्ति के कारण इनका नाम आदिशक्ति भी पड़ा है। उसकी आठ भुजाएँ हैं और वह सिंह पर सवार है। सात हाथों में एक चक्र, एक गदा, एक धनुष, एक कमंडल, एक कलश, एक तीर और एक कमल है।


मां दुर्गा के इस कुष्मांडा स्वरूप की पूजा निम्न मंत्र से करनी चाहिए-


सुरासंपूर्णकलशं, रुधिराप्लुतमेव च।

दधाना हस्तपद्माभ्यां, कूष्मांडा शुभदास्तु मे।।


हिंदी अर्थ:- अमृत से परिपूरित कलश को धारण करने वाली और कमलपुष्प से युक्त तेजोमय मां कूष्मांडा हमें सब कार्यों में शुभदायी सिद्ध हो


माँ कूष्मांडा बीज मंत्र 


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै नम: 



मां स्कंदमाता मां दुर्गा का पांचवां रूप हैं।


नवरात्रि के पांचवें दिन मां दुर्गा के नौ रूपों में पांचवें स्वरूप स्कंदमाता की पूजा की जाती है। स्कंद कार्तिकेय, शिव और पार्वती के दूसरे और शादानन (छः मुखी) पुत्र का एक नाम है। स्कंद की माता होने के कारण उनका नाम स्कंदमाता पड़ा। मां के इस रूप की चार भुजाएं हैं और उन्होंने अपनी दाहिनी ओर की ऊपरी भुजा से स्कंद यानि कार्तिकेय को धारण किया हुआ है और इस ओर की निचली भुजा के हाथ में कमल का फूल है। बाईं ओर ऊपरी भुजा में वरद मुद्रा है और दूसरी भुजा के नीचे सफेद कमल का फूल है। सिंह उनका वाहन है। चूँकि वह सौरमंडल की अधिष्ठात्री देवी हैं, इसलिए उनके चारों ओर एक अलौकिक चमकता हुआ चक्र सूर्य के समान दिखाई देता है।


स्कंदमाता के इस रूप की पूजा निम्न मंत्र से करनी चाहिए-


सिंहासनगता नित्यं, पद्माश्रितकरद्वया।

शुभदास्तु सदा देवी, स्कंदमाता यशस्विनी।।


हिंदी अर्थ:- सिंह पर सवार रहने वाली और अपने दो हाथों में कमल का फूल धारण करने वाली यशस्विनी स्कंदमाता हमारे लिये शुभदायी हो।


माँ स्कंदमाता बीज मंत्र 


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं स्कंदमा‍तायै नम:



मां दुर्गा के छठे स्वरूप मां कात्यायनी है। 


नवरात्रि के छठे दिन मां दुर्गा के नौ रूपों में छठे स्वरूप कात्यायनी की पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है कि जो व्यक्ति इनकी पूजा करता है, उसे धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष के चार पुरुषार्थ प्राप्त होते हैं। क्योंकि उनका जन्म कात्या गोत्र के महर्षि कात्यायन की पुत्री के रूप में हुआ था, इसलिए उनका नाम कात्यायनी पड़ा। उसका रंग सोने के समान चमकीला है और उसकी चार भुजाएँ हैं। ऊपर वाला दाहिना हाथ अभय मुद्रा में है और निचला हाथ वर मुद्रा में है। ऊपरी बाएँ हाथ में तलवार है, और निचले हाथ में कमल का फूल है। उनका वाहन भी सिंह है। 


इनकी पूजा, अर्चना और स्तुति निम्न मंत्र से की जाती है।


चंद्रहासोज्ज्वलकरा, शार्दूलवरवाहना।

कात्यायनी शुभं दद्यात्, देवी दानवघातनी।।


हिंदी अर्थ:- चंद्रहास की भांति देदीप्यमान, शार्दूल अर्थात् शेर पर सवार और दानवों का विनाश करने वाली मां कात्यायनी हम सबके लिए शुभदायी हो।


गूगल पर सर्च करके थक चुके है तो नये अनुभव के लिए ट्रॉय करे एंटायर वेब  


माँ कात्यायनी बीज मंत्र 


ॐ क्रीं कात्यायनी क्रीं नम: 



मां कालरात्रि मां दुर्गा का सातवां रूप है।


नवरात्रि के सातवें दिन माँ दुर्गा के नौ रूपों में सातवें स्वरूप मां कालरात्रि की पूजा करने का विधान है। उनका रंग अँधेरे के समान काला है। बाल बिखरे हुए हैं और उनके गले में दिखाई देने वाली माला बिजली की तरह तेज है। उन्हें सभी आसुरी शक्तियों का नाश करने वाला कहा जाता है। उनकी तीन आंखें और चार हाथ हैं, जिनमें एक में तलवार, दूसरे में लोहे का हथियार, तीसरे में अभयमुद्र और चौथे हाथ में वरमुद्र है। उनका वाहन है गरदभ यानी गधा है। 


निम्नलिखित मंत्र से मां कालरात्रि की पूजा, अर्चना और स्तुति की जाती है।


एकवेणी जपाकर्ण, पूरा नग्ना खरास्थिता।

लम्बोष्ठी कर्णिकाकर्णी, तैलाभ्यक्तशरीरिणी।

वामपादोल्लसल्लोह, लताकंटकभूषणा।

वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा, कालरात्रिभयंकरी।।


हिंदी अर्थ:- एक वेणी (बालों की चोटी) वाली, जपाकुसुम (अड़हुल) के फूल की तरह लाल कर्ण वाली, उपासक की कामनाओं को पूर्ण करने वाली, गर्दभ पर सवारी करने वाली, लंबे होठों वाली, कर्णिका के फूलों की भांति कानों से युक्त, तैल से युक्त शरीर वाली, अपने बाएं पैर में चमकने वाली लौह लता धारण करने वाली, कांटों की तरह आभूषण पहनने वाली, बड़े ध्वजा वाली और भयंकर लगने वाली कालरात्रि मां हमारी रक्षा करें।


माँ कालरात्रि बीज मंत्र 


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं कालरात्र्यै नम: 



मां दुर्गा के आठवें स्वरूप मां महागौरी है। 


नवरात्रि के आठवें दिन मां दुर्गा के नौ रूपों में आठवें स्वरूप मां महागौरी की पूजा करने का विधान है। जैसा कि इनके नाम से ही स्पष्ट है कि इनका रंग पूरी तरह से गौर यानि सफेद है। इनके कपड़े भी सफेद रंग के हैं और सभी आभूषण भी सफेद हैं। इनका वाहन वृषभ यानि बैल है और इनके चार हाथ हैं। उनका ऊपरी दाहिना हाथ अभयमुद्रा में है और उनके निचले दाहिने हाथ में त्रिशूल है। ऊपर वाले बाएँ हाथ में डमरू और नीचे वाले हाथ में वरमुद्रा है। कहा जाता है कि भगवान शिव को पति रूप में पाने के लिए उन्होंने हजारों वर्षों तक कठोर तपस्या की थी, जिससे उनका रंग काला पड़ गया था, लेकिन बाद में भगवान महादेव ने गंगा के जल से इनका रंग फिर से गौर वर्ण कर दिया था। 


गूगल पर सर्च करके थक चुके है तो नये अनुभव के लिए ट्रॉय करे एंटायर वेब  


निम्नलिखित मंत्र से इनकी पूजा और स्तुति की जाती है।


श्वेते वृषे समारूढा, श्वेताम्बरधरा शुचि:।

महागौरी शुभं दद्यात्, महादेवप्रमोददाद।।


हिंदी अर्थ:- सफेद बैल पर सवार, श्वेत वस्त्र धारण करने वाली, अत्यन्त पवित्र और महादेव को अपनी भक्ति से प्रसन्न करने वाली मां महागौरी हम सबका कल्याण करे।


माँ महागौरी बीज मंत्र 


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं महागौर्ये नम: 



मां दुर्गा का नौवां रूप मां सिद्धिदात्री है।


नवरात्रि के नौवें दिन मां दुर्गा के नौ रूपों में से नौवें स्वरूप मां सिद्धदात्री की पूजा करने का विधान है। जैसा कि उनके नाम से स्पष्ट है कि देवी सिद्धिदात्री सभी प्रकार की सिद्धियों को देने वाली देवी हैं। उनके चार हाथ हैं और वे कमल के फूल पर विराजमान हैं। वैसे इनका वाहन भी सिंह ही है। उनके निचले दाहिने हाथ में चक्र और ऊपर वाले हाथ में गदा है। निचले बाएँ हाथ में कमल का फूल और ऊपरी हाथ में शंख है। अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्राकाम्य, इशित्वा और वशित्व नामक आठ सिद्धियों का उल्लेख प्राचीन शास्त्रों में किया गया है। मां सिद्धिदात्री की आराधना और कृपा से इन आठ सिद्धियों को प्राप्त किया जा सकता है। हनुमान चालीसा को 'अष्टसिद्धि नव निधि का दाता' भी कहा गया है। 


मां सिद्धिदात्री की पूजा, अर्चना और स्तुति निम्न मंत्र से की जाती है।


सिद्धगंधर्वयक्षाद्यै:, असुरैरमरैरपि।

सेव्यमाना सदा भूयात्, सिद्धिदा सिद्धिदायिनी।।


हिंदी अर्थ:- सिद्ध, गंधर्व, यक्ष, असुर और अमरता प्राप्त देवों के द्वारा भी पूजित किए जाने वाली और सिद्धियों को प्रदान करने की शक्ति से युक्त मां सिद्धदात्री हमें भी आठों सिद्धियां प्रदान करे।  


माँ सिद्धिदात्री बीज मंत्र 


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं सिद्धिदात्र्यै नम: 



माँ दुर्गा के नौ रूपों और 13 अध्यायों को PDF में डाउनलोड करें



  

सम्बंधित जानकारियाँ 

Post a Comment

Plz do not enter any spam link in the comment box.

और नया पुराने