मधुराष्टकम स्तोत्र


वैसे तो धार्मिक ग्रंथों में श्रीकृष्ण की अनेकों स्तुतियाँ मिलती हैं, लेकिन इन सबके बीच 'मधुराष्टकम' की बात बहुत ही अनोखी है। इस छोटे से स्तवन में मुरली मनोहर की न केवल बहुत ही आकर्षक छवि उभरती है, बल्कि यह भी महसूस किया जाता है कि वह सर्वव्यापी और दुनिया के एकमात्र पालनकर्ता हैं।


मधुराष्टकम स्तोत्र हिंदी अर्थ के साथ

मधुराष्टकम की रचना किसने की थी? 


मधुराष्टकम की रचना पुष्टिमार्ग के प्रवर्तक और महान वैष्णवाचार्य श्री वल्लभाचार्यजी ने की थी। यह एक बहुत ही सुंदर स्तोत्र है, जिसमें मधुरापति भगवान कृष्ण के मधुर और सुंदर रूप और भावों का वर्णन किया गया है। मधुराष्टकम मूल रूप से संस्कृत में रचा गया है। मधुराष्टकम में आठ श्लोक हैं और प्रत्येक श्लोक में मधुरम शब्द का आठ बार प्रयोग किया गया है। यह स्वाभाविक भी है, क्योंकि कृष्ण साक्षात् स्वयं में ही माधुर्य और मधुरापति हैं।


एक बार एक भक्त ने कहा था कि अगर मुझे श्री कृष्ण का मधुर रूप और अमृत में से किसी एक को चुनना पड़े, तो मै श्री कृष्ण का मधुर रूप ही चुनुँगा क्योंकि अमृत तो एक बार पीने से समाप्त हो जाएगा, लेकिन भगवान का मधुर रूप निरंतर बढ़ता रहेगा और कभी समाप्त नहीं होगा, ऐसी है श्री कृष्ण के मधुर रूप की महिमा।



मधुराष्टकम में श्रीकृष्ण के बाल रूप को मधुरतम रूप में वर्णित किया गया है। श्रीकृष्ण का प्रत्येक अंग और क्रिया मधुर है, और उनके मिलन से अन्य जीवित और निर्जीव चीजें भी मधुरता प्राप्त करती हैं। 

 

मधुराष्टकम हिंदी अर्थ के साथ  


अधरं मधुरं वदनं मधुरं, नयनं मधुरं हसितं मधुरम्।

हृदयं मधुरं गमनं मधुरं, मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्।।1।।


हिंदी अर्थ:- (हे कृष्ण!) आपके होंठ मधुर हैं, आपका मुख मधुर है, आपकी ऑंखें मधुर हैं, आपकी मुस्कान मधुर है, आपका हृदय मधुर है, आपकी चाल मधुर है, मधुरता के ईश हे श्रीकृष्ण! आपका सब कुछ मधुर है॥१॥


वचनं मधुरं चरितं मधुरं, वसनं मधुरं वलितं मधुरम्।

चलितं मधुरं भ्रमितं मधुरं, मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्।।2।।


हिंदी अर्थ:- आपका बोलना मधुर है, आपके चरित्र मधुर हैं , आपके वस्त्र मधुर हैं, आपका तिरछा खड़ा होना मधुर है , आपका चलना मधुर है, आपका घूमना मधुर है, मधुरता के ईश हे श्रीकृष्ण! आपका सब कुछ मधुर है॥२॥



वेणुर्मधुरो रेणुर्मधुर:, पाणिर्मधुर: पादौ मधुरौ।

नृत्यं मधुरं सख्यं मधुरं, मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्।।3।।


हिंदी अर्थ:- आपकी बांसुरी मधुर है, आपके लगाये हुए पुष्प मधुर हैं, आपके हाथ मधुर हैं, आपके चरण मधुर हैं , आपका नृत्य मधुर है, आपकी मित्रता मधुर है, मधुरता के ईश हे श्रीकृष्ण! आपका सब कुछ मधुर है॥३॥


गीतं मधुरं पीतं मधुरं, भुक्तं मधुरं सुप्तं मधुरम्।

रूपं मधुरं तिलकं मधुरं, मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्।।4।।


हिंदी अर्थ:- आपके गीत मधुर हैं, आपका पीना मधुर है, आपका खाना मधुर है, आपका सोना मधुर है, आपका रूप मधुर है, आपका टीका मधुर है, मधुरता के ईश हे श्रीकृष्ण! आपका सब कुछ मधुर है॥४॥


करणं मधुरं तरणं मधुरं, हरणं मधुरं रमणं मधुरम्।

वमितं मधुरं शमितं मधुरं, मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्।।5।।


हिंदी अर्थ:- आपके कार्य मधुर हैं, आपका तैरना मधुर है, आपका चोरी करना मधुर है, आपका प्यार करना मधुर है, आपके शब्द मधुर हैं, आपका शांत रहना मधुर है, मधुरता के ईश हे श्रीकृष्ण! आपका सब कुछ मधुर है॥५॥



गुंजा मधुरा माला मधुरा, यमुना मधुरा वीची मधुरा।

सलिलं मधुरं कमलं मधुरं, मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्।।6।।


हिंदी अर्थ:- आपकी घुंघची मधुर है, आपकी माला मधुर है, आपकी यमुना मधुर है, उसकी लहरें मधुर हैं, उसका पानी मधुर है, उसके कमल मधुर हैं, मधुरता के ईश हे श्रीकृष्ण! आपका सब कुछ मधुर है॥६॥


गोपी मधुरा लीला मधुरा, युक्तं मधुरं मुक्तं मधुरम्।

दृष्टं मधुरं शिष्टं मधुरं, मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्।।7।।


हिंदी अर्थ:- आपकी गोपियाँ मधुर हैं, आपकी लीला मधुर है, आप उनके साथ मधुर हैं, आप उनके बिना मधुर हैं, आपका देखना मधुर है, आपकी शिष्टता मधुर है, मधुरता के ईश हे श्रीकृष्ण! आपका सब कुछ मधुर है॥७॥


गोपा मधुरा गावो मधुरा, यष्टिर्मधुरा सृष्टिर्मधुरा।

दलितं मधुरं फलितं मधुरं, मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्।।8।।


हिंदी अर्थ:- आपके गोप मधुर हैं, आपकी गायें मधुर हैं, आपकी छड़ी मधुर है, आपकी सृष्टि मधुर है, आपका विनाश करना मधुर है, आपका वर देना मधुर है, मधुरता के ईश हे श्रीकृष्ण! आपका सब कुछ मधुर है॥८॥



मधुराष्टकम स्त्रोत्र PDF में डाउनलोड करे 





सम्बंधित जानकारियाँ 

Post a Comment

Plz do not enter any spam link in the comment box.

और नया पुराने